शादी में 7 फेरे ही क्यों लिए जाते हैं 5 या 9 क्यों नहीं ?

7 Pheron Ka Mahatva: जब जनरल नॉलेज की बात आती है तो हम अलग अलग फील्ड की नॉलेज की बात करते हैं. आज हम आपको शादी के सात फेरों से जुड़े एक सवाल के बारे में भी बताने जा रहे हैं कि क्यों 7 ही फेरे लिए जाते हैं, लेकिन हम इसके मैथ कनेक्शन के बारे में आपका बता रहे हैं कि कैसे गणित में इसे फिट बैठाया गया है.

सवाल 1 – शादी में 7 फेरे ही क्यों लिए जाते हैं 5 या 9 क्यों नहीं ? ये है इसका गणित.

इसका गणित – 

इस सवाल का जवाब गणित की नजर से दें तो यह होगा.
जब कोई फेरा लेता है तो वो 360 डिग्री का होता है.
360 एक ऐसा नंबर है जो 1, 2, 3, 4, 5, 6, 8, 9 और 10 से विभाजित हो जाता है, लेकिन 7 से नहीं होता है.
इसलिए शादी को कोई तोड़ न सके काट न सके इसलिए सात फेरे लेते हैं.

लेकिन अब सवाल आता है कि 11 भी तो हो सकता है 13 भी तो हो सकता है. तो इसके पीछे का लॉजिक है कि सबसे छोटा नंबर है जिससे ये विभाजित नहीं होता है. अगर सभी नंबर देखेंगे तो फेरे पूरे ही नहीं हो पाएंगे. तो इसीलिए सोचते हैं कि सबसे छोटे नंबर के बराबर फेरे लेकर बड़े से बड़ा काम हो जाए.

शादी में क्यों लिए जाते हैं 7 फेरे ?

Technical Point – 

हिंदू धर्म में शादी के समय सात फेरे लेने का संबंध सात जन्मों का बंधन माना जाता है। शास्त्रों में इस सात फेरे लेने की प्रक्रिया को सप्तपदी भी कहा गया है। ये सात फेरे ही हिंदू विवाह की स्थिरता का मुख्य स्तंभ है। इस दौरान वर-वधू अग्नि को साक्षी मानकर सात फेरे लेते हैं और अपने मन, तन, आत्मा से हमेशा एक दूसरे का साथ निभाने का वादा करते हैं।

शादी के 7 वचन 

हिंदू धर्म में शादी के दौरान सात फेरे 7 वचन के साथ लिए जाते हैं। हर फेरे का एक वचन होता है जिसके जरिए वर-वधू जीवनभर साथ निभाने का वादा करते हैं। सनातन धर्म में इन सात फेरों और वचन का काफी महत्व है। दो लोगों का शारीरिक और आत्मिक रूप से एक होना, जिसे विवाह का पवित्र बंधन कहा जाता है। मान्यता है कि मनुष्य सात जन्म लेता है, इसलिए वर-वधु को सात जन्मों का साथी कहा जाता है।

क्या है सात की संख्या का महत्व? 

शास्त्रों के अनुासर, हिंदू धर्म में सारी महत्वपूर्ण चीजों की संख्या सात मानी गई है। जैसे संगीत के सात सुर, इंद्रधनुष के सात रंग, सात समुद्र, सप्ततऋषि, सात दिन, सात चक्र, मनुष्य की सात क्रियाएं, सात तारे, आदि। इसलिए वैदिक और पौराणिक मान्यताओं में 7 की संख्या को बहुत शुभ माना गया है।  यही वजह है कि शादी-विवाह में सात की संख्या बहुत मायने रखती है, फिर चाहें वो, सात फेरे हो, सात वचन या फिर सात जन्म।

सवाल 2 – भारत का कौन सा शहर पान के लिए प्रसिद्ध है?
जवाब 2 – भारत का बनारस शहर पान के लिए प्रसिद्ध है.

सवाल 3 – किस शहर को सुहाग नगरी के नाम से जाना जाता है?
जवाब 3 – फिरोजाबाद को सुहाग नगरी के नाम से जाना जाता है.

सवाल 4 – भारत की सबसे साफ नदी किसे कहा जाता है?
जवाब 1 – उमंगोट को भारत की सबसे साफ नदी कहा जाता है

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *