कारगिल युद्ध में हिमाचल 52 जवानों ने प्राणों की आहुति देकर लिखी थी विजय गाथा

 

  •  भारत और पाकिस्तान की सेनाओं के बीच वर्ष 1999 में कारगिल युद्ध हुआ था जो लगभग 60 दिनों तक चला और 26 जुलाई के दिन उसका अंत हुआ और अंत में भारत विजयी हुआ। 
  • कारगिल युद्ध में सेना के सर्वोच्च सम्मान दो परमवीर चक्र समेत अनेक चक्र इस वीरभूमि के वीरों के कंधे पर सुसज्जित हैं।
  • कैप्टन विक्रम बतरा को (मरणोपरांत) और राइफलमैन संजय कुमार को परमवीर चक्र से सम्मानित किया गया।

 

  • जिला कांगड़ा से कैप्टन विक्रम बत्रा परमवीर चक्र, लेफ्टिनेंट सौरभ कालिया, जीडीआर बजिंद्र सिंह, आरएफएन राकेश कुमार, लांस नायक वीर सिंह, आरएफएन अशोक कुमार, आरएफएन सुनील कुमार, सिपाही लखवीर सिंह, नायक ब्रह्म दास, आरएफएन जगजीत सिंह, सिपाही संतोख सिंह, हवलदार सुरिंद्र सिंह, लांस नायक पदम सिंह, जीडीआर सुरजीत सिंह, जीडीआर योगिंद्र सिंह शामिल थे।
  • देश की सरहदों पर कुर्बानी देने में जिला हमीरपुर भी पीछे नहीं रहा। कारगिल युद्ध में यहां से आठ जवान शहीद हुए। हमीरपुर में बगवाड़ा के समलेहड़ा हवलदार स्वामी दास चंदेल , बड़सर के कुलेहरा गांव के शहीद प्रवीन, ऊहल गांव से 14 जैक रेजिमेंट के शहीद हवलदार कश्मीर सिंह,
    सुजानपुर के बीड़ बगेहड़ा से 27 राजपूत रेजिमेंट के सिपाही राकेश कुमार,
    पंचायत अमरोह के ठनियानका गांव से 28 आरआर रेजिमेंट के सुनील कुमार, बरोटी से 13 जैक रेजिमेंट के दीप चंद शहीद हुए थे।

 

  • जिला मंडी-दीपक गुलेरिया, खेम चंद राणा, कृष्ण चंद, सरवण कुमार, टेक सिंह मस्ताना, राकेश कुमार चौहान, नरेश कुमार, हीरा सिंह, पूर्ण चंद, गुरदास सिंह, मेहर सिंह, अशोक कुमार।

 

  • जिला बिलासपुर-उधम सिंह (वीर चक्र), मंगल सिंह, विजय पाल, राजकुमार, अश्वनी कुमार, प्यार सिंह, मस्तराम।

 

  • जिला शिमला-यशवंत सिंह, श्याम सिंह (वीर चक्र), नरेश कुमार, अनंतराम।

 

  • जिला ऊना-अमोल कालिया (वीर चक्र), मनोहर लाल।

 

  • जिला सोलन के शहीद-धर्मेंद्र सिंह, प्रदीप कुमार।

 

  • जिला सिरमौर के शहीद-कुलविंद्र सिंह, कल्याण सिंह (सेना मेडल)।

 

  • जिला चंबा के शहीद-खेम।

 

  • जिला कुल्लू के शहीद-डोला राम

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *