सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम 2023 क्या है

केंद्र सरकार ने देश के वरिष्ठ नागरिको की आर्थिक सहायता के लिए बचत स्कीम (Senior Citizen Saving Scheme) को शुरू किया है। सभी बुजुर्गो के लिए इस योजना को अच्छा माना जा रहा है चूँकि यह योजना उनके निवेश पर अच्छा ब्याज दे रही है। इसके अतिरिक्त योजना के लाभार्थी को टैक्स में भी रिहायत का लाभ मिल जायेगा। चूँकि यह एक सरकारी स्कीम का तो इसमें किसी भी लाभार्थी के पैसे डूबने का भी जोखिम नहीं है। इस लेख के अंतर्गत आपको केंद्र सरकारी की इस महत्वपूर्ण एवं लाभकारी स्कीम के लाभ, प्रावधान एवं लाभार्थी बनने की प्रक्रिया को बताया जा रहा है।

Senior Citizen Saving Scheme
Senior Citizen Saving Scheme

Table of Contents

 

 

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम

Senior Citizen Saving Scheme- देश के बैंकों और पोस्ट ऑफिस में वरिष्ठ नागरिको के लिए विभिन्न फायदेमंद योजनाएँ शुरू की गयी है। इन बचत योजनाओ में लाभार्थी को अच्छे ब्याज के साथ निवेश की सुरक्षा भी मिल जाती है। पोस्ट ऑफिस ने भी सीनियर सिटिज़न सेविंग स्कीम के नाम (SCSS) नाम से एक स्कीम शुरू की है। इस समय यह स्कीम अपने ग्राहकों को 7.4% सालाना ब्याज दे रही है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम के उद्देश्य

केंद्र सरकार की Senior Citizen Saving Scheme देश के अधिक आयु के नागरिको को बचत से जुड़े फायेदे देने के लिए निवेश का मौका दे रही है। यह स्कीम बुजुर्गो को सर्वाधिक ब्याज एवं टैक्स छूट प्रदान कर रही है। अपनी बचत के पैसो को निवेश करने की प्लानिंग करने वाले सीनियर सिटिज़न को यह स्कीम बेहतर निवेश का अवसर प्रदान करेगी। कोई भी योग्य वरिष्ठ नागरिक मात्र 1,000 रुपए की राशि से योजना का खाता खोल सकता है।

तय आमदनी की राशि 3 माह में मिलती है

केंद्र सरकार की सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में लाभार्थी वरिष्ठ नागरिक को निवेश करने के बाद प्रत्येक तिमाही में आने वाले 5 वर्षों तक एक तय राशि आमदनी के रूप में मिलेगी। सरकार इन पैसो को लाभार्थी के सेविंग अकाउंट में प्रत्येक तिमाही की 1 तारीख में पहुँचा देगी। इस प्रकार से योजना के लाभार्थी को हर साल अप्रैल, जुलाई, अक्टूबर, जनवरी महीनों की पहली तारीख में यह राशि मिल जाएगी। लाभार्थी द्वारा जमा की गयी निवेश राशि को 5 सालों की समय सीमा के बाद पूरी तरह से लौटा दिया जायेगा। किन्तु इन 5 सालों में योजना के लाभार्थी को एक तय आमदनी भी प्राप्त होती रहेगी।

 

खाते में जमा धन पर 8 प्रतिशत ब्याज

साल 2023 की पहली तारीख में ही सरकार ने Senior Citizen Saving Scheme में प्राप्त होने वाली ब्याज दर में वृद्धि करके 8 प्रतिशत कर दिया है। इससे पहले तक इस स्कीम में लाभार्थी को 7.6 प्रतिशत की दर से सलाना ब्याज मिल रहा था। इस निर्णय के बाद से ये स्कीम सर्वाधिक ब्याज दर प्रदान करने वाली सरकारी योजना भी बन गयी है। इसके अतिरिक्त सरकार के ओर से हर तिमाही में स्कीम में एक नई ब्याज दर की घोषणा भी की जाती है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में फायदे

  • Senior Citizen Saving Scheme में वरिष्ठ नागरिक मात्र 1 लाख रुपए तक की ही कैश जमा कर सकते है।

  • इससे अधिक मात्रा में धनराशि जमा करके में लाभार्थी को बैंक चेक का इस्तेमाल करना होगा।

  • कोई भी उम्मीदवार मात्र 1,000 रुपए की धनराशि से अपना खाता खोल सकता है।

  • वरिष्ठ नागरिक Senior Citizen Saving Scheme के तहत केवल 15 लाख रुपए तक का ही निवेश कर सकते थे जिसको सरकार ने साल 2023 में 30 लाख रुपए कर दिया।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम की योग्यताएँ

  • Senior Citizen Saving Scheme में सिर्फ भारत के नागरिक ही आवेदन कर सकते है।

  • उम्मीदवार की आयु कम से कम 60 वर्ष होनी चाहिए।

  • जिन वरिष्ठ नागरिको ने VRS का लाभ लिया है वो कर्मचारी 55 से 60 साल की आयु के बीच सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम का लाभ ले सकते है।

  • देश के वे सैनिक जिनकी आयु 50 साल से अधिक एवं 60 साल से कम है उनको रिटायरमेंट के 1 महीने के बाद योजना में आवेदन की अनुमति है।

  • किसी अन्य देश की सिटिज़नशिप पा चुके वरिष्ठ नागरिक इस योजना के लिए पात्र नहीं होंगे।

  • Senior Citizen Saving Scheme में किसी पति-पत्नी को आपस में मिलकर जॉइंट अकाउंट खोलने की भी अनुमति है।

  • ऐसी स्थिति में मुख्य खाताधारक पर ही न्यूनतम आयु का नियम मान्य होगा और दूसरे साथी की आयु कुछ भी होने पर स्वीकृति रहेगी।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में जरुरी प्रमाणपत्र

  • आवेदक का आधार कार्ड

  • आईडी प्रमाणपत्र

  • निवास प्रमाणपत्र

  • आयु का प्रमाणपत्र

  • मोबाइल नंबर

  • ईमेल आईडी इत्यादि।

बैंक और पोस्ट ऑफिस में खाता खोल सकेंगे

  • सीनियर सिटिज़न सेविंग स्कीम के खाते को पोस्ट ऑफिस और मान्यता प्राप्त बैंक (SBI, PNB या अन्य) में खोल सकते है।

  • किन्तु उचित तो यही रहेगा कि आप उसी बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस की शाखा में ही अपना खाता खुलवा ले जहाँ पर आपका पहले से ही बचत खाता खुला है।

  • स्कीम के लाभार्थी को सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम से जो भी लाभ राशि मिलेगी वो सीधे ही उसके बचत खाते (बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस के) में जमा होती है।

  • इस प्रकार से एक ही बैंक/ पोस्ट ऑफिस की शाखा में पैसे जमा होने से लाभार्थी को अधिक आसानी रहेगी।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में खाता खोलने की प्रक्रिया

बचत योजना में तय पात्रताएं एवं प्रमाणपत्र रखने वाले सभी वरिष्ठ नागरिक नीचे दी गयी प्रक्रिया को फॉलो करके योजना का लाभ ले सकते है –

  • सबसे पहले आपने अपने नजदीक के बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस में जाना है।

  • आपने ऑफिस के सम्बंधित अधिकारी से योजना को लेकर संपर्क करें।

  • अधिकार से आपको स्कीम का खाता खोलने का आवेदन फॉर्म प्राप्त होगा।

  • आपने आवेदन फॉर्म में माँगी जा रही सही डिटेल्स को ध्यान से दर्ज़ करना है।

  • फॉर्म के साथ सभी जरुरी KYC प्रमाणपत्रों को भी संलग्न कर देना है।

  • इस प्रकार से तैयार किये गए आवेदन फॉर्म को सम्बंधित अधिकारी के पास जमा कर देना है।

  • इसके बाद सभी जाँच होने के बाद आपका सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम का खाता खोल दिया जायेगा।

 

 

50 हजार रुपए से अधिक ब्याज पर TDS कटौती के प्रावधान

इस स्कीम में जमा की गई धनराशि पर यदि एक साल में 50,000 रुपए से ज्यादा ब्याज प्राप्त होता है तो इस सीमा से अधिक की राशि पर टैक्स के प्रावधान रहेंगे। इसके अंतर्गत मिलने वाले अतिरिक्त ब्याज पर बैंक 10 प्रतिशत TDS भी काट लेगा। किन्तु यदि ब्याज की वह राशि भी मिलाकर भी लाभार्थी की वार्षिक आय 5 लाख रूपये से कम ही रहती है तो वह TDS की कटौती को रुकवा सकते है।

TDS कटौती रोकने की प्रक्रिया

Senior Citizen Saving Scheme के लाभार्थी के पास ब्याज से मिलने वाली राशि पर TDS कटौती के लिए फॉर्म 15G अथवा 15H को भरने का विकल्प रहेगा। यह फॉर्म भरकर स्कीम का खाता खोले गए बैंक/ पोस्ट ऑफिस की ब्राँच में ही जमा करना होगा। इस फॉर्म को 60 साल से कम आयु वर्ग के लाभार्थियों को भरना होता है। ये दोनों ही फॉर्म के तरह से घोषणा पत्र जिनके माध्यम से लाभार्थी यह घोषणा करता है कि उसकी वार्षिक आय किसी प्रकार के टैक्स की देनदारी के अंतर्गत नहीं आती है। इस वजह से उसकी आय पर कोई टैक्स नहीं काटना चाहिए।

मेच्योरिटी समयसीमा से पहले पैसे निकालने के प्रावधान

केंद्र सरकारी की इस लाभकारी योजना में किसी लाभार्थी को तय समयसीमा से पूर्व ही पैसे निकालने की जरुरत होती है तो इसके भी कुछ प्रावधान होंगे। ऐसे काम में दंड के नियमों को लाभार्थी के पैसे निवेश करने की तारीख से निकालने के बीच में टाइम पीरियड के हिसाब से मान्य किया जाना है। समय से पूर्व पैसे निकासी के दंड नियम निम्न प्रकार से है –

  • यदि कोई लाभार्थी निवेशक स्कीम में खाता खुलने के 2 वर्षो के भीतर अपने खाते को बंद करता है तो ऐसी दशा में जमा राशि में से 5 प्रतिशत की राशि की कटौती भी होगी।

  • इसी प्रकार से लाभार्थी निवेशक के द्वारा खाता खोलने के 2 से 5 साल के मध्य में स्कीम के खाते में से पैसे निकालता है तो उसकी जमा राशि में से 1 प्रतिशत की धनराशि को जुर्माने के रूप में काटा जायेगा।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम खाता खोलने वाले बैंक

आईसीआईसीआई बैंक बैंक ऑफ बड़ौदा
केनरा बैंक केनरा बैंक
बैंक ऑफ इंडिया यूनियन बैंक ऑफ इंडिया
विजया बैंक आंध्रा बैंक
यूको बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया
सिंडिकेट बैंक कारपोरेशन बैंक
पंजाब नेशनल बैंक देना बैंक
इलाहाबाद बैंक आईडीबीआई बैंक इत्यादि

लाभार्थी की मृत्यु होने के प्रावधान

अगर स्कीम के लाभार्थी की पॉलिसी के मेच्योर होने से पहले ही मृत्यु हो जाती है तो ऐसी दशा में पॉलिसी में चुने गए नॉमिनी को पूरी राशि दे दी जाएगी। इस स्कीम में किसी भी विदेशी नागरिक को नॉमिनी नहीं बना सकते है। इसके अलावा अगर लाभार्थी के कोई पति अथवा पत्नी मौजूद है तो वह लाभार्थी के देहांत के बाद पॉलिसी के अकाउंट को मेच्योरिटी होने तक जारी कर सकते है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम से जुड़े प्रश्न

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम क्या है?

यह केंद्र सरकार की वरिष्ठ नागरिक बचत योजना है जिसमे 60 वर्ष से अधिक आयु का भारतीय नागरिक खाता खोलकर अच्छे ब्याज का रिटर्न ले सकता है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम में खाते को बढ़ाया जा सकेगा?

जी हाँ, योजना का लाभार्थी एक साल की अवधि के भीतर अपने खाते को 3 सालों के लिए और बढ़ा सकता है।

 

सीनियर सिटिज़न सेविंग योजना में लॉक-इन समय क्या है?

सभी लाभार्थी वरिष्ठ नागरिको के लिए योजना में 5 साल का लॉक-इन समय सीमा रखी गई है। लाभार्थी चाहे तो इसे पहले भी कटौती के नियमानुसार पैसे निकाल सकता है और 5 साल के बाद समयसीमा को बढ़ा भी सकता है।

सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम के खाते को कर साल खोल सकते है?

लाभार्थी के लिए खोले गए खाते की अवधि 5 वर्ष तय की गयी है और इसके समयसीमा के बाद ये पैसे भी वापिस मिलेंगे। चाहे तो इसके बाद खाता खोल सकते है।

योजना में टैक्स के बिना जमा राशि की सीमा क्या है?

सरकार की वरिष्ठ नागरिक योजना में 1.50 लाख रुपए तक के निवेश एवं खर्चे पर लाभार्थी को टैक्स में छूट मिलेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *