जूनियर अकाउंटेंट क्या है व कैसे बनें, योग्यता, अनुभव, सैलरी, इंटरव्यू

जूनियर अकाउंटेंट क्या है

जूनियर अकाउंटेंट बैंक में स्थाई एक पद होता हैं। जो वित्तीय विभाग को अपनी अकाउंट की कला का प्रदर्शन दिखाते हुए निम्न प्रकार से लाभ दिलाने में सफल रहते हैं तथा यह न केवल बैंक बल्कि फाइनेंशियल के क्षेत्र में यह बड़ी-बड़ी कंपनी को फायदा दिलाने में अपना बड़ा योगदान देते हैं।

जूनियर अकाउंटेंट कैसे बने?

  • जूनियर अक्कौन्टैन्ट बनने के लिए आपके पास बी कॉम की डिग्री अच्छे अंकों के साथ होना आवश्यक है।

  • कंप्यूटर में टैली सॉफ्टवेयर के साथ-साथ कंप्यूटर के अन्य सॉफ्टवेयर की जानकारी होना चाहिए।

  • एडवांस टैली की जानकारी से निपूर्ण होना क्योंकि यह एक अक्कौन्टैन्ट सॉफ्टवेयर होता है।

जूनियर अकाउंटेंट बनने के लिए योग्यता:

  •  गणित में अच्छे अंक से पास होना।

  • अंग्रेजी में बात -चीत करने की योग्यता।

  • कंप्यूटर में टैली प्रोग्राम की समझ।

  • अकाउंट की सामान्य नीतियों की समझ।

  • सामान्य गणित ज्ञान तथा उच्च स्तर का गणित में परिपक्व होना।

  • कंप्यूटर का सामान्य ज्ञान होना।

  • आपकी अंग्रेजी टाइपिंग स्पीड अधिक होना।

  • अकाउंट से जुड़े सभी सॉफ्टवेयर के समझ।

  • बैंक से जुड़े सभी कानूनी तौर तरीकों से परिचित होना आवश्यक है।

  • कम समय में अधिक काम लब्ध कराने की योग्यता।

जूनियर अकाउंटेंट के लिए शिक्षा

  • भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक डिग्री अच्छे अंको के प्राप्त होना तथा अन्य कलाओं में अच्छा प्रदर्शन जैसे- वाणिज्य,विज्ञान और कंप्यूटर की कला में बेहतर पकड़ होना एक अक्कौन्टैन्ट के कार्य को बेहतर तरीके से किया जा सकता है।

अकाउंटेंट के लिए आयु सीमा:

एक जूनियर अक्कौन्टैन्ट की आयु सीमा राज्यों के मुताबिक अलग-अलग होती है, परन्तु कम उम्र वाले उम्मीदवार 21 वर्ष की आयु में और ज़्यादा उम्रवाले उम्मीदवार 27 वर्षीय आयु में जुनियर अक्कौन्टैन्टपद के लिए आवेदन कर सकते है हांलाकि विभिन्न स्थानों में जूनियर अक्कौन्टैन्ट की आयु सीमा वहाँ के विभाग द्वारा तय की जाती है।

जूनियर अकाउंटेंट की जिम्मेदारियाँ?

  • अकाउंट से जुड़ी सभी फाइलों पर ध्यान रखना।

  • सभी अकाउंट उपभोक्ताओं की समस्याओं को सुलझाना।

  • कम्पनी में व्यापार से होने वाले लेखा-जोखा का ध्यान रखना।

  • उपलब्ध अकाउंट का संचालन का जारी रखना।

  • अकाउंट की सभी सप्ताह और मासिक फाइलों का हमेशा अपडेट रखना।

  • कंपनी में होने वाले बडे-बडे लेनदेन की खबर का ध्यान रखना।

  • एक अकाउंटेंट को बैंक तथा कम्पनी में हो रही राशि की गतिविधियों पर नज़र रखना।

  • वित्तीय से सम्बन्धित उत्पन्न समस्याओं पर काबू पाना।

जूनियर अकाउंटेंट का इंटरव्यू:

जैसा कि हम जानते हैं जूनियर अकाउंटेंट का पद महत्वपूर्ण तथा जिम्मेदारियों वाला पद होता है जिसके कारण अकाउंटेंट का इंटरव्यू 4 राउंड में खत्म किया जाता है।

सभी राउंड में अभिभावक से जूनियर अक्कौन्टैन्ट से संबंधित प्रश्न तो किए ही जाते हैं उसके अलावा उसकी नीजी तथा शिक्षा से संबंधित कई प्रश्न पूछे जाते हैं।

जूनियर अकाउंटेंट की सैलरी:

जितना बढ़िया एक जूनियर अक्कौन्टैन्ट का पद होता है। उससे कई ज्यादा गुना जूनियर अक्कौन्टैन्ट की सैलरी होती है। जूनियर अक्कौन्टैन्ट की मासिक आय 30,000 से ₹40,000 होती है। यदि जूनियर अक्कौन्टैन्ट अनुभवी और संविदा के माध्यम से जूनियर अक्कौन्टैन्ट का पद प्राप्त करता है तो उसकी सैलरी 50000 से ₹60000 प्रतिमाह होती है।

यदि जूनियर अकाउंटेंट व्यक्ति को 3 से 4 साल का अकाउंट में कार्य करने का अनुभव होता है तो उसकी पर माह एक लाख रुपए आय हो सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *